Saturday, April 2, 2011

जीत लिए हम विश्वकप--(विनोद कुमार पांडेय)

आप सभी को विश्वकप जीतने की बहुत बहुत बधाई..भारत की जीत के जश्न में मैनें भी कुछ शब्द जोड़ें है..कुण्डलिनी छ्न्द में मेरा पहला प्रयोग है..आपसे हौसला आफजाई की उम्मीद है..धन्यवाद


धोनी व गंभीर ने ऐसा किया कमाल,

मुरली की सब तान गई,हुए मलिंगा लाल,

हुए मलिंगा लाल, लगाया जब धोनी ने चौका,

जीत नही पाई श्रीलंका,गया हाथ से मौका,

श्रीलंकाई टीम की सूरत हो गई रोनी,

बड़े जोश से आगे बढ़ जब,छक्का मारे धोनी.


लाएँ हम फिर विश्‍वकप,स्वप्न हुए साकार,

जीते हम एक शान से, गई श्रीलंका हार,

गई श्रीलंका हार हुए संगकारा बहुत उदास

धोनी व गंभीर की नें रच डाली इतिहास

मुरली,महेला और मलिंगा भी ना कुछ कर पाएँ

और सचिन के लिए विश्व कप हम भारत में लाएँ..

19 comments:

Patali-The-Village said...

वर्ड कप और नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ| धन्यवाद|

M VERMA said...

हार्दिक बधाई
बेहतरीन बधाई का अन्दाज़ अपनाया है आपने

डॉ टी एस दराल said...

विश्व कप में भारत की जीत पर आप सबको ढेरों बधाइयाँ ।
ट्रूली , वी आर द चैम्प्स ।

: केवल राम : said...

आप सबको हार्दिक बधाई .....भारतीय टीम के विश्व कप जितने पर ....!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बधाई ...मन के भावों को कहती अच्छी अभिव्यक्ति

देवेन्द्र पाण्डेय said...
This comment has been removed by the author.
Anubhav Anand said...

Bahut khub bhai..........

दिगम्बर नासवा said...

वाह वाह विनोद जी ... आनद आ गया .. जीत का मज़ा दुगना कर दिया आपने इन पंक्तियों से ...

Udan Tashtari said...

बेहतरीन विनोद...बहुत बधाई

देवेन्द्र पाण्डेय said...

आपको भी बहुत बधाई
चलिए आपने कलम तो चलाई।

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

प्रिय बंधुवर विनोद कुमार पांडेय जी
सस्नेहाभिवादन !

क्रिकेट में भारत के विश्वविजेता बनने पर बधाई !

बड़े जोश से आगे बढ़ जब,छक्का मारे धोनी … बड़ा रोमांच हो आया था तब … सचमुच !

हां , कुंडली छंद में अच्छे प्रयास के लिए भी बधाई ! ऐसी रचनाओं को पढ़-लिख कर आनन्द लेना ज़्यादा बेहतर होता है … :)


चैत्र शुक्ल शुभ प्रतिपदा, लाए शुभ संदेश !
संवत् मंगलमय ! रहे नित नव सुख उन्मेष !!

*नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !*


- राजेन्द्र स्वर्णकार

Kajal Kumar said...

ले आए

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बहुत बढ़िया पंक्तियाँ रची हैं.... बधाइयाँ ...

Rahul said...

Superb...:)

Vijayendra said...

Bahut badiya Vinod..

JHAROKHA said...

vinod ji
aapki is rachna se pata chalta hai ki bharat ke vishv -cup jeete ne se pure desh me jshn ka mahoul sa bana hua hai .yah ham sabhi ke liye bade hi garv ki baat hai .
aakhir sapna sakaar hokar hi raha.
aapne to badi hi sundarta ke saath kundlini chhando ka prayog kaiya hai.
aisa jara bhi nahi lagta ki aap inka pryog pahli baar kar rahe hain.
bahut bahut badhai avam shubh kamna
poonam

Vinay Gaur said...

Wah!!!!!!!!

सतीश सक्सेना said...

शुभकामनायें आपके लिए !

Amrita Tanmay said...

bahut khub